पेंटेकोस्ट

______________________________________________________________

______________________________________________________________

अध्याय 2

जब पिन्तेकुस का दिन आया, तो वे सब एक जगह इकट्ठे थे।
और एकाएक आकाश से बड़ी आंधी की सी सनसनाहट का शब्द हुआ, और उस से सारा घर जहां वे बैठे थे, गूंज गया।
और उन्हें आग की सी जीभें फटती हुई दिखाई दीं; और उन में से हर एक पर आ ठहरीं।
और वे सब पवित्र आत्मा से भर गए, और जिस प्रकार आत्मा ने उन्हें बोलने की सामर्थ दी, वे अन्य अन्य भाषा बोलने लगे॥
और आकाश के नीचे की हर एक जाति में से भक्त यहूदी यरूशलेम में रहते थे।
जब वह शब्द हुआ तो भीड़ लग गई और लोग घबरा गए, क्योंकि हर एक को यही सुनाईं देता था, कि ये मेरी ही भाषा में बोल रहे हैं।

______________________________________________________________

This entry was posted in हिन्दी and tagged . Bookmark the permalink.